/c/tech: Technology

25975 stories 30692 subscribers

Moderators

0

वन्यजीवों के संरक्षण की आवश्यकता क्यों है? www.thinkwithniche.inban site

"वन्यजीवों का संरक्षण" "Protection Of Wildlife" हमें उन संसाधनों को बचाने में मदद करता है जो हमें प्रकृति द्वारा उपहार के रूप में प्रदान किए गए हैं इसलिए हमारा भी फ़र्ज है कि हम सब मिलकर इसको सहेज कर रखें। वन्यजीव से मतलब उन जानवरों से है जो पालतू या समझदार नहीं हैं, वो सिर्फ जंगली जानवर हैं और जंगल में रहते हैं। इन्सान अपनी जीवनशैली और आधुनिकता में उन्नति कर रहा है। पेड़ों और जंगलों की भारी कटाई से वन्यजीवों के आवास नष्ट हो रहे हैं। देखा जाये तो आज मनुष्य अपने कर्मों से वन्यजीव प्रजातियों के बड़े पैमाने पर विलुप्त होने के लिए जिम्मेदार हैं। किसी भी मानव वन्यजीव की प्रजाति को अपने आनंद के उद्देश्य से मार रहे हैं। अवैध रूप से शिकार करना भी एक दंडनीय अपराध है। वन्यजीव संरक्षण का तात्पर्य है कि हम सबको जानवरों और पौधों की प्रजातियों का संरक्षण करना है क्योंकि वो विलुप्त होने की कगार पर हैं। यानि लुप्त होने की कगार पर पहुँचे वन्य जीवों के नस्ल को सुरक्षित रखना हमारा मुख्य उद्देश्य होना चाहिए। हमें इन प्रजातियों के अस्तित्व को सुनिश्चित करना है और लोगों को अन्य प्रजातियों के साथ स्थायी रूप से रहने के लिए शिक्षित करना है। ऐसा नहीं है कि इन विलुप्त होते जीवों को बचाने की कोशिश नहीं की जा रही है। इसके लिए सरकार की ओर से भी कोशिश शुरू कर दी गयी है। अभी हाल ही में नामीबिया से लाए जा रहे आठ चीते भारत आ गए हैं। दरअसल देश में 1952 में चीतों के विलुप्त होने की घोषणा की गई थी और करीब 70 साल बाद देश में चीते दिखाई देंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा यह पहल की गयी है और कूनो नेशनल पार्क में इन चीतों को छोड़ा गया है। सरकार की योजना अगले पांच साल तक अफ्रीका के अलग-अलग देशों से चीते लाकर हिन्दुस्तान में बसाने की है। वास्तव में ये वन्यजीव विश्व के पारिस्थितिक तंत्र के रूप में, प्रकृति की प्रक्रियाओं को संतुलन और स्थिरता प्रदान करते हैं। तो चलिए आज इस लेख में जानते हैं कि वन्यजीवों का संरक्षण क्यों आवश्यक है?
Read the full article on www.thinkwithniche.in
category tech posted by thinkwithniche 1 year ago 0 comments edit flag/unflag delete delete and ban this url

Comments (0)

You need to be logged in to write comments!
This story has no comments.